अपघर्षकों के उत्पादन में शीर्ष कोट

लेपित अपघर्षकों के उत्पादन में जुड़ाई पदार्थ के दूसरे विनियोग को शीर्ष कोट कहते हैं . यह मूल जुड़ाई के बाद तल पर जुड़ चुके अपघर्षक के दानों पर की जाती है.  शीर्ष कोट का मुख्य कार्य - जिसे बाद-का-लाह भी कहा जाता है - अपघर्षक दाने को जोड़ में मजबूती से लंगर करना है.

इसका मुख्य उद्देश्य पीसने की प्रक्रिया के दौरान दाने को निरंतर मिलते हुए पार्श्व बल के विरुद्ध अतिरिक्त आलम्बन देना है.  इसके माध्यमिक प्रभावों में से एक है उत्पाद को उसका विशिष्ट रंग प्रदान करना.
शीर्ष कोट के प्रकार और मात्रा का अपघर्षक के प्रदर्शन पर एक महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है. Klingspor हमेशा अपने अपघर्षकों के शीर्ष कोट के लिए एक कृत्रिम राल का उपयोग करता है क्योंकि यह गोंद या अन्य प्राकृतिक जुड़ाई पदार्थों की तुलना में काफी ज़्यादा मज़बूती और आसंजन प्रदान करता है, जिसके फलस्वरूप बेहतर दाना आसंजन और उच्च पीसाई प्रदर्शन देखने को मिलता है. हर प्रकार के शीर्ष कोट के इस्तेमाल के लिए उसकी मात्रा को नुस्खे में निर्धारित किया जाता है और संबंधित अनुप्रयोग के लिए अनुकूलित और रूपान्तरित किया जाता है. लेपित अपघर्षकों के उत्पादन के दौरान Klingspor शीर्ष कोट के इस्तेमाल का लेज़र मापन द्वारा लगातार निरीक्षण करता है और साथ में ही परिभाषित नमूनों पर प्रक्रिया संबंधित वज़न माप के माध्यम से निश्चित करता है कि नुस्ख़े के विनिर्देश का पालन हो.

शीर्ष कोट सभी लेपित अपघर्षकोंके लिए एक विशेष भूमिका निभाता है, विशेष रूप से अपघर्षक बेल्टों के लिए जिनकी उच्च काटने की गति होती है और जो अधिक तनाव से गुज़रती हैं  शीर्ष कोट में कुछ विशेष सामग्री मिलाने से अपघर्षक बेल्टों के गुणों को और भी बढ़ाया जा सकता है और उन्हें विशिष्ट अनुप्रयोगों के लिए उपयुक्त बनाना संभव है.  उदाहरण के लिए, LS 312 JF, CS 411 Y और ऐसे ही अन्य उपकरण जोअकलुष इस्पात संसाधन के लिए इस्तेमाल किये जाते हैं, उनमें सक्रिय अपघर्षक पदार्थ को मिलाया जाता है.

शब्द और परिभाषाओं पर वापिस जाएं


सभी सहाय्य विषय