निष्क्रिय परत

तथाकथित निष्क्रिय परत एक पतली ऑक्साइड परत है जो ऑक्सीजन के संपर्क में आने पर क्षय- प्रतिरोधी इस्पात के सतह पर बन जाती है.  ऑक्सीजन परमाणुओं के साथ मिलकर इस्पात के क्रोमियम परमाणु एक घनी और निष्क्रिय (इसलिए  "निष्क्रिय परत" शब्द का उपयोग होता है) ऑक्साइड परत बना लेते हैं, जो ऑक्सीकरण की प्रगति को रोक कर स्टील को क्षय से बचाता है. निष्क्रिय परत का गुण या स्थायित्व मुख्य रूप से इस्पात की मिश्रधातु संरचना पर निर्भर करता है.

अकलुष इस्पात सामान्य इस्पात जैसे ही ऑक्सीजन के साथ प्रतिक्रिया करके एक ऑक्साइड परत  बनाता है.  सामान्य इस्पात के मामले में, ऑक्सीजन इस्पात में मौजूद लोहे के परमाणुओं के साथ प्रतिक्रिया करके एक छिद्रपूर्ण सतह (ज़ंग) बना लेता है, जो इस अभिक्रिया को और आगे बढ़ाने में मदद करती है. इस प्रक्रिया के परिणामस्वरूप वर्कपीस को पूरा “ज़ंग” लग सकता है.

क्षय-प्रतिरोधी इस्पात पर ऑक्सीजन इस्पात में अपेक्षाकृत उच्च सान्द्रता में मौजूद क्रोमियम परमाणुओं के साथ प्रतिक्रिया करके सतह पर निष्क्रिय परत बना लेता है.
“क्षय-प्रतिरोधी” इस्पात पर ज़ंग लगने के दो कारण होते हैं:

  • निष्क्रिय परत का न बन पाना, या
  • निष्क्रिय परत का क्षतिग्रस्त होना


निष्क्रिय परत के न बनने को सिर्फ़ एक उच्च कोटि की सफ़ाई से रोका जा सकता है. संसाधित सतहों से सभी अवशेषों को अच्छी तरह से साफ करके हटा देना चाहिए. यह विशेष रूप से अपघर्षकों द्वारा छोड़े गए अवशेषों पर लागू होता है. इस कारण से, अकलुष इस्पात के प्रसंस्करण के लिए उपयुक्त सभी अपघर्षक मूल रूप से क्लोरीन, लौह और सल्फ़र (द्रव्यमान अंश <0.01%) से मुक्त होते हैं.

शब्द और परिभाषाओं पर वापिस जाएं


सभी सहाय्य विषय