काटने की गति

जिस गति के साथ एक उपकरण पिसाई के दौरान चलता है, उसे काटने की गति कहते हैं.
उदाहरण स्वरूप, एक बेल्ट सैंडर मशीन के सन्दर्भ में यह संचलन गति है और एक कोण ग्राइंडर के सन्दर्भ में यह काटने अथवा पीसने वाले डिस्क की घूर्णी गति है. इसे अधिकतम संचालन गति भी कहा जाता है.

पिसाई के दौरान काटने की गति की निम्न सूत्र के आधार पर गणना की जाती है:

Formel Schnittgeschwindigkeit

Vc = काटने की गति [m/s]
D = उपकरण का व्यास [mm]
n = घूर्णी गति [1/min.]

काटने की गति और फ़ीड दर मिल कर काटने की प्रक्रिया के समय पर एक निर्णायक प्रभाव डालते हैं और इस साथ-साथ ही समय की प्रति इकाई के लिए आउटपुट/उत्पादन मात्रा और प्राप्त परिष्कृत सतह की गुणवत्ता पर भी. कटाई की गति के साथ-साथ ब्लेड का तापमान भी बढ़ता रहता है, अर्थात कटाई की गति में कोई भी बढ़ोतरी उपकरण की टूट-फूट में वृद्धि करती है जिससे उपकरण कासेवा जीवनकम हो जाता है. पिसाई के दौरान इष्टतम काटने की गति का चयन प्राथमिक रूप से संसाधित किए जाने वाले पदार्थ/ सामग्री पर निर्भर होता है.

लागू मानक, सुरक्षा कारणों से यह निर्दिष्ट करते हैं की ज्यादातर मामलों में घूर्णी अपघर्षक उपकरणों की अधिकतम स्वीकार्य काटने की गति = अधिकतम संचालन गतिहै.

शब्द और परिभाषाओं पर वापिस जाएं


सभी सहाय्य विषय